निरंकार मिलादे

निरंकार मिलादे

साकार निरंकार मिलादे .

देख सकूँ इसे  बो  चक्षु  लगादे  .,

दीदार कराँ मैं उठदा बेह्न्दा ,

हर साह दे नाल नाम नूं   लैंदा ,

हर कदम चल सकूं मैं ज्ञान दे रस्ते ,

ताकि ये जीबन कट जाये हस्ते हस्ते ,

ध्यान च  मेरे निरंकार बसादे  ,

हे साकार ……… ,………………………..

निरंकार पर Best quote को पढने के लिए यहाँ क्लिक करें   

ज्ञान दी है किती तूं रहमत ,

तेरे हर वचन तों होवां मैं सहमत .

बिना ज्ञान तों मैं सी भक्षक

भक्षक तों  तूं बनाता रक्षक ,

 

अज्ञान दा तूं दूर किता हनेरा

मेरे जीबन च  हुन होया सबेरा .

तेरी रजा बिच रहना आजाये .

तू ही निरंकार कहना आजाये ,,

दाता तूं मैनू दर्श  दिखादे .

अपनी रजा बिच रहना सिखादे ,,

हे साकार ……… ,………………………….

 इंसानों में पाया है एक अद्भुत कविता को पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

 

Check Also

Nazar-नज़र-andaz-Andaaz-अंदाज़

Nazar-नज़र

Nazar-नज़र   नज़र का अंदाज़ ना कोई समझ पाया है जो  समझ पाए अंदाज़ वह …

सुरक्षा-suraksha-Safety

सुरक्षा-suraksha|Safety

सुरक्षा से जीवन का सार, बिन सुरक्षा जीवन बेकारसुरक्षा से जीवन में बहार, सुरक्षा के है मायने हजार

5 comments

  1. Ultimate thoughts

  2. Devotional lines

  3. nice poetry

  4. Dhan nirankar ji

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *