Priya Bhatiya

Priya Bhatiya
मैं Priya Bhatiya जम्मू की रहने वाली हूँ। मुझे शेर - ओ - शायरी, गज़लें और कवितायें लिखना और पढ़ना दोनों बहुत पसंद हैं। फिर मुझे Man Ke Par website net पर मिली । अब मैं अपनी लिखी हुई रचनाएँ मन के पर वैबसाइट के माध्यम से लोगों तक पहुंचा सकती हूँ । धन्यवाद

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं तेरी मोहब्बत के बिना कुछ गवारा  नहीं तू मुझे कभी खुद से अलग ना करना क्यूंकि तेरे बिना मेरी ज़िंदगी का गुज़ारा नहीं किसी और की अब मुझे ज़रूरत नहीं इस दिल को केवल तेरी चाहत …

Read More »

The Eternal Bond of Brother and Sister | भाई और बहन का अनन्त बंधन

The Eternal Bond of Brother and Sister

The Eternal Bond of Brother and Sister | भाई और बहन का अनन्त बंधन भाई और बहन का अनन्त बंधन (The Eternal Bond of Brother and Sister) भाई और बहन के आपसी प्रेम की एक ऐसी अनूठी गाथा है; जो अंतर आत्मा  को गदगद कर देगी। रेखा का जन्म शहर …

Read More »

Man Ke Par | मन के पर

मन के पर | Man Ke Par, Man Ke Paar

Man Ke Par(मन के पर) शब्द तब सार्थक होता है जब कोई सोच का दायरा बढ़ाकर विचारों को मन के पार (Man Ke Paar) ले जाता है। क्लिक करें और कहानी पढ़ें

Read More »