Ranbir Singh Bhatia

लाईफ़ में ज़माना देखा है

मैंने लाईफ़ में ज़माना देखा है, Life men maine zamana dekha hai

इस कविता (मैंने लाईफ़ में ज़माना देखा है) में कवि ने अपने आँखों देखे ज़माने के हालात और मन के भावों को कलम का सहारा लेते हुए व्यक्त करने की कोशिश की है

Read More »

Love or Tickle | मोहब्बत या फिर गुदगुदी

Love or Tickle | मोहब्बत या फिर गुदगुदी

तूने की थी मोहब्बत या फिर गुदगुदी (Love or Tickle) की थी हँसी आ जाती है आज भी याद करके मुझे पता नहीं चलता कि रोता है दिल मेरा या नहीं बस आँखों में नमी आ जाती है याद करके तुझे तू तो थी आबाद और फिर आबाद ही हो …

Read More »

इन्सान की फितरत | Insan ki Fitrat

इन्सान की फितरत, insan ki fitrat

इन्सान की फितरत भी कितनी अजीब है,सब सुख हैं मगर फिर भी गरीब है insan ki fitrat भी कितनी अजीब है, जिंदगी खड़ी मौत के कितने करीब है खुद दुखी दूसरे को सताने का नित नया बहाना बनता है अपनों की तो कद्र नहीं और नित नया ज्ञान अपनाता है …

Read More »

Sapna-सपना

Sapna, सपना, dream

काश  मेरी लाइफ में कोई अपना होता देखा था जो पूरा वो सपना(sapna)होता   कोई समझ पाता हमारे  जज्बातों को हमारे मन की सारी बातों को हमें बोलने की जरूरत नहीं होती नज़रों की भाषा में हर बात पूरी होती   जितनी करते हैं परवाह हम उनकी ज्यादा ना सही मगर थोड़ी …

Read More »

Desh Ki Tasveer-2 (देश की तस्बीर -2)

देश की तस्बीर, Desh

Desh Ki Tasveer-2 (देश की तस्बीर -2) भारत देश की विभिन्न कड़वी सच्चाईयों को उजागर करती हुई हिन्दी कविता को पढ़ने के लिए क्लिक करें

Read More »

देश की तस्बीर | Desh Ki Tasveer

देश की तस्बीर, Desh

आज भारत देश की तस्बीर तुम्हे दिखता हूँ,कुछ बातें हैं दुःख देने वाली आओ तुम्हे सुनाता हूँ,जाती वाद है  और बढ़ा भाई के बिरुद्ध है भाई लड़ा ........

Read More »

रिश्ता हमारा

रिश्ता हमारा

रिश्ता हमारा,सारे रिश्तों में न्यारा,जो है हमें जान से प्यारा,ये रिश्ता अनमोल है,इसका ना  कोई मोल है .....पढने के लिए क्लिक करें

Read More »

सँसार कर्म की नगरी

सँसार कर्म की नगरी

सँसार कर्म की नगरी सँसार की नश्वरता और प्रभु की सत्यता के साथ साथ मन के कृत्य को समझाते हुए सतगुरु के महत्व को व्यक्त करता एक भक्ति काव्य

Read More »

विश्वास करके तो देख

विश्वास करके तो देख

ईश्वर क्या कहते हैं इंसान से लेखक की कलम से इन भावों को हिंदी कविता रूप में पढने के लिए क्लिक करें.

Read More »

निरंकार मिलादे

Mercy, रहमत, सेवा, sewa

निरंकार मिलादे :- एक भक्त की अपने गुरु के चरणों में प्यार भरी अरदास और इस निरंकार से मिलने की चाह को भक्ति काव्य को पढने के लिए क्लिक करें....

Read More »