Best Poetry

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं

आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं आशिक (Lover) हूँ पर आवारा (Loafer) नहीं तेरी मोहब्बत के बिना कुछ गवारा  नहीं तू मुझे कभी खुद से अलग ना करना क्यूंकि तेरे बिना मेरी ज़िंदगी का गुज़ारा नहीं किसी और की अब मुझे ज़रूरत नहीं इस दिल को केवल तेरी चाहत …

Read More »

Love or Tickle | मोहब्बत या फिर गुदगुदी

Love or Tickle | मोहब्बत या फिर गुदगुदी

Love or Tickle | मोहब्बत या फिर गुदगुदी तूने की थी मोहब्बत या फिर गुदगुदी (Love or Tickle) की थी हँसी आ जाती है आज भी याद करके मुझे पता नहीं चलता कि रोता है दिल मेरा या नहीं बस आँखों में नमी आ जाती है याद करके तुझे तू …

Read More »

कुदरत | Nature

कुदरत - Nature

कुदरत | Nature कुदरत (Nature) दे रंगा दी खेड न्यारी जहड़े रचदे दुनिया सारी रंग बिरंगी दुनिया साजी जावाँ एहना रंगा तों बलिहारी काहदा करना ए हर वेले माण  तू पतंद्रा खुलदा नहीं फिर लगया अक्ल ते जिन्द्रा तू झड़ जाना इवे बंदया जिवे पत्ता सुकी टाहणी दा एह कुदरत …

Read More »

तेरे सिवा | Tere Siwa

tere siwa

तेरे सिवा | Tere Siwa इस दुनिया में कुछ भी सही नहीं है तेरे सिवा (Tere Siwa) कोई और कहाँ चाहेगा इतना तुमको एक मेरे सिवा किसी को भी राज बताने से डर लगता है क्योंकि, लोगों ने सीखा ही नहीं दर्द के उपहास के सिवा l   अगर एक …

Read More »

ना अब दिल दुखाएंगे

ना अब दिल दुखाएंगे- naa ab dil dukhayenge

ना अब दिल दुखाएंगे किसी का ना अब हम दिल दुखाएंगे! किसी पर ना अब हम हक जमाएंगे घर के बड़ों ने तो सिर्फ नाम रख दिया। अब नाम और पहचान हम खुद ही बनाएंगे। रहते हैं कायारुपी किराए के मकान में, रोज सांसो को बेचकर किराया हम ही चुकाएंगे। …

Read More »

इन्सान की फितरत | Insan ki Fitrat

इन्सान की फितरत, insan ki fitrat

इन्सान की फितरत | Insan Ki Fitrat इन्सान की फितरत भी कितनी अजीब है,सब सुख हैं मगर फिर भी गरीब है insan ki fitrat भी कितनी अजीब है, जिंदगी खड़ी मौत के कितने करीब है खुद दुखी दूसरे को सताने का नित नया बहाना बनता है अपनों की तो कद्र …

Read More »

Sapna-सपना

Sapna, सपना, dream

 Sapna-सपना काश  मेरी लाइफ में कोई अपना होता देखा था जो पूरा वो सपना(sapna)होता   कोई समझ पाता हमारे  जज्बातों को हमारे मन की सारी बातों को हमें बोलने की जरूरत नहीं होती नज़रों की भाषा में हर बात पूरी होती   जितनी करते हैं परवाह हम उनकी ज्यादा ना सही मगर …

Read More »

Nazar-नज़र

Nazar-नज़र-andaz-Andaaz-अंदाज़

Nazar-नज़र नज़र (Nazar) का अंदाज़ ना कोई समझ पाया है जो  समझ पाए अंदाज़ वह सबका साया है बहुत करते है लोग जहां वहाँ की बातें जो ना जाने वह सब की तरह ना पाते होता है ज़िक्र अगर नज़रअंदाज़ का मानो जैसा कुछ बुरा भुलाने का इतना नहीं आसान …

Read More »

सुरक्षा-suraksha | Safety

सुरक्षा-suraksha-Safety

सुरक्षा से जीवन का सार, बिन सुरक्षा जीवन बेकारसुरक्षा से जीवन में बहार, सुरक्षा के है मायने हजार

Read More »