Best Miss You Poetry

Best Miss You Poetry

Does anyone come to your thoughts? Are you missing anyone? We will help you find him, to whom you are missing. On our website you can find all kinds of poetry to suit you in Miss You Poetry. Not only this, as often as you come to our website, you will find something new.

क्या कोई आपके विचारों में आता है? क्या आप किसी को याद कर रहे हैं? हम उसे ढूंढने में आपकी मदद करेंगे, जिसे आप याद कर रहे हैं। हमारी वेबसाइट पर आपको मिस यू पोएट्री में आपके अनुरूप सभी प्रकार की कविताएँ मिल सकती हैं। यही नहीं, जितनी बार आप हमारी वेबसाइट पर आएंगे, आपको कुछ नया मिलेगा।

Teri Yaad|तेरी याद

महफिल में हूं मैं(Mehfil Me Hu Main)

ना जाने क्यूं रौनक के गीत में भी उदासी सी नजर आती है मोहब्बत के सागर में अपनी रूह प्यासी सी नजर आती है 

मेरा हमसफ़र, Teri Khair-तेरी ख़ैर

मेरा हमसफ़र

मेरा हमसफ़र:- Best Romantic Poetry की इस अद्भुत और सबसे अलग कविता को मन के पार पर हिंदी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करें…………..

परिवार, परिवार – कहानी हर घर की-2,एक बार बताया तो होता-bataaya to hota

बताया तो होता | Bataaya To Hota

एक बार बताया तो होता:- मन के पार की टूटे हुए दिल और याद वाली इस अलग कविता को हिंदी में पढने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

Teri Yaad|तेरी याद

Teri Yaad | तेरी याद

ना रो सके ना कुछ बोल सके ऐसे कुछ हालात थे मेरे 

मुझे तो गम था तेरे जाने का, पता नहीं क्या ज़ज्बात थे तेरे 

रिश्ता हमारा

हमें भी प्यार हुआ था

हमें भी प्यार हुआ था ,आँखों ही आँखों  मैं इजहार हुआ थाकोईथी जो दिल को इतना लुभा गयी ,इक नशे की तरहा सर पर छा  आ गयी ,

खबर

खबर

खबर:- ऐसा नहीं है के भूल पाया हूँ मैं परतेरी यादों ने फिर से पागल बना दिया मुझकोतू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिनमैं …………..

Teri Yaad|तेरी याद

सो सा गया हूँ मैं

सो सा गया हूँ मैं:-जब से देखा है तेरी आँखों को कहीं खो सा गया हूँ मैं जगता तो बहुत हूँ रातों को पर लगता है जैसे सो सा गया हूँ मैं तेरी मु…..

रुलाया गया हूँ मैं, Dukh,Gam aur Aansu, गम और आंसू - दर्द की इन्तेहा

रुलाया गया हूँ मैं

कभी रुलाया तो कभी जलाया गया हूँ मैं तुझ से मिलने से पहले न जाने कितनी बार ठुकराया गया हूँ मैं

बच्चपन-2

बच्चपन-2

बच्चपन-2 चला गया बच्चपन अब ज़बानी का आग़ज हुआ , शुरु एक नया अध्याय हुआ ,धीरे धीरे बुधि का बिकास हुआ ,

Scroll to Top