Best Poetry on Reality

Best Poetry On Reality

Are you among those who observe things around them? There are some untold truths that can only be realized.
You will find many such poems on this website in Poetry on reality section. If you are also fond of writing, then you too can write with us.
For that you will need to sign up and you can write your own thoughts.

क्या आप उनमें से हैं जो अपने आस-पास की चीजों का निरीक्षण करते हैं? कुछ अनकहे सच हैं जिन्हें केवल महसूस किया जा सकता है।
इस वेबसाइट पर आपको ऐसी कई कविताएँ मिलेंगी। अगर आप भी लिखने के शौकीन हैं, तो आप भी हमारे साथ लिख सकते हैं।
उसके लिए आपको साइन अप करना होगा और आप अपने विचार लिख सकते हैं।

मैंने लाईफ़ में ज़माना देखा है, Life men maine zamana dekha hai

लाईफ़ में ज़माना देखा है

इस कविता (मैंने लाईफ़ में ज़माना देखा है) में कवि ने अपने आँखों देखे ज़माने
के हालात और मन के भावों को कलम का सहारा लेते हुए व्यक्त करने की कोशिश की है

aim | लक्ष्य

AIM | लक्ष्य

AIM | लक्ष्य के प्रति और अधिकतर दुनयावी रिश्तों के प्रति जागरूक करने वाली इस Best Poetry को हिंदी में पढ़ने के लिए click करें….

कुदरत - Nature

कुदरत | Nature

कुदरत (Nature) दे रंगा दी खेड न्यारी जहड़े रचदे दुनिया सारी रंग बिरंगी दुनिया साजी जावाँ एहना रंगा तों बलिहारी काहदा करना ए हर वेले …

कुदरत | Nature Read More »

सुरक्षा-suraksha-Safety

सुरक्षा-suraksha | Safety

सुरक्षा से जीवन का सार, बिन सुरक्षा जीवन बेकारसुरक्षा से जीवन में बहार, सुरक्षा के है मायने हजार

muskurahat-मुस्कुराहट-muskaan

मुस्कुराहट-Muskurahat

मुस्कुराहट-Muskurahat से किया करो सबका अभिनन्दन 
हो जाता है शीतल मन सबका ज्यूँ लगा हो लेप चन्दन 
होती है यह एक कला सबके पास हर समय हर पल

Time, wqt, waqt,

Time-वक़्त गुज़र जाएगा…….

वक़्त की कीमत तो मन को वक़्त ही सिखाता है  बिना  ठोकर लगे मन को हरगिज़ ना समझ आता  है…. पूरा पढने के लिए क्लिक करें

रुलाया गया हूँ मैं, Dukh,Gam aur Aansu, गम और आंसू - दर्द की इन्तेहा

Dukh (दुःख)

Dukh:- दुनिया की बोलदी  ओहदी  इक   ना  सुण तूजेहड़ा लग्गे चंगा तैनू   औस राह नू  चुण  तूलख  जमाने दा पूर  लै  तू भावे  पख मौका पैण ते बदल जान्दी एहदी अख्ख ..

देश की तस्बीर, Desh

Desh Ki Tasveer-2 (देश की तस्बीर -2)

Desh Ki Tasveer-2 (देश की तस्बीर -2) भारत देश की विभिन्न कड़वी सच्चाईयों को उजागर करती हुई हिन्दी कविता को पढ़ने के लिए क्लिक करें

कहना या सहना

Kehna Ya Sehna एक लड़की के जीवन के कटु सत्य से जुड़े हुए पहलुओं को दर्शाती हुई इस अद्भुत और सबसे अलग कविता को हिंदी में पढने के लिए क्लिक करें |

Scroll to Top