Kali Zuban - काली ज़ुबान, Kali Zuban -2

Kali Zuban -2 (काली ज़ुबान-2)

Kali Zuban -2

kali zuban-2 ke is bhaag mein aapaka svaagat hai | is kahaanee mein abhee tak aapane padha ki :-

kamala ek bahut hee pichhade hue gaanv mein rahatee thee |

vo thodee padhee likhee bhee thee| usake pati ka naam guradayaal tha.
vo gaanv mein apanee khetee aur mazadooree karake vo apana ghar chalaate the.

yahaan  is gaanv mein  har phasal par kuladevata ko balee dee jaatee thee |
is baar balee ke lie bakara dene kee baree  sukhiya kee thee.

sukhiya kisee beemaar bakare ko le aata hai | kamala is baat ka birodh karatee hai |
lekin sukhiya kisee tareeke se kamala ko chup karava deta hai |
isake baad kamala prasaad lene se bhee mana kar detee hai | sabhee is baat ko lekar naaraaz hote hain |

ghar mein kamala ka pati guradayaal is baare mein baat karata hai | kamala usako apane tark se santusht kar detee hai |

udhar sukhiya kamala se badala lene aur usako neecha dikhaane ke lie yojana bana raha hota hai |

 

ab aage :-

apanee yojana ke aanusaar sukhiya mukhiya ke ghar pahunch jaata hai |

mukhiya bahaan baithakar hukka pee raha tha |

sukhiya:- raam raam mukhiya jee |

mukhiya:- raam raam sukhiya | aao  baitho kaise aana hua |

sukhiya :- kuchh nahin mukhiya jee bas idhar se nikal raha tha | socha aapase milata chaloon |

baise aapakee tabiyat to theek hai na |

mukhiya :- haan theek hai |

sukhiya :- bo main isalie poochh raha tha kyoonkee kamala ne kal bahut kuchh kaha tha |

kamala ne kal meree naak hee katava dee |

mukhiya :- are sukhiya! vo to paagal hai | usakee baaton  par mat jao |

sukhiya :- bo baat to theek hai mukhiya jee ! lekin usane prasaad na lekar achchha nahin kiya |

agar kuladevata naaraaz ho gaya to saare gaanv ko bhugatana padega|

mukhiya :- haan yah baat to hai sukhiya |

sukhiya ;- achchha mukhiya jee! chalata hoon  main, raam raam |

mukhiya:- raam raam |

 

sukhiya bahaan  se chala  jaata hai . vo apanee yojana par bahut khush ho raha tha. vo mukhiya ko kamala ke khilaaph bhadakaane mein saphal ho chuka tha.

ab vo seedha gaanv ke ojha ke paas jaata hai. sukhiya ojha ke kaan bhee kamala ke khilaaph achchhe se bhar deta hai.

 

kuchh dinon ke baad

abhee balee vaalee baat ko thode din hee beete the . achaanak se gaanv mein beemaar padana shuroo ho jaate hain. ek ke baad ek beemaar padate hee ja rahe the.

gaanv vaale ojha ke paas jaate hain. vahaan par sukhiya pahale se hee maujood tha.

mukhiya:– are sukhiya! tum yahaan kya kar rahe ho, kya baakee sab kee tarah  beemaar pad gae ho?

sukhiya:– raam raam mukhiya jee ! nahin main to theek hoon lekin, aap sab kee chinta mujhe ojha baaba ke paas kheench laee.

mukhiya :– ojha se  raam raam  baaba.

ojha :– raam raam mukhiya jee. yah sab to hona hee tha.

kuladevata ke prasaad ka niraadar hoga to yah to hona hee hai. kuladevata gaanv se naaraaz ho gaya hai.

mukhiya sahit sabhee gaanv vaale sakate mein aa jaate hain.

idhar sukhiya apana kaam shuroo kar deta hai.

sukhiya:– dekha gaanv baalo! mainne pahale hee kaha tha ki kamala kee kaalee zubaan hai. tab mukhiya jee ne bhee meree baat ko gambheerata se nahin liya.

mukhiya:– bo baat nahin hai sukhiya. aise to tum bhee beemaar nahin hue?

sukhiya:– haan mukhiya jee. shaayad isalie ki mera man saaph tha aur saaph niyat se maine balee dee thee.

mukhiya:– lekin kamala aur guradayaal bhee to theek hain.

sukhiya:– ho sakata hai koee jaadoo tona karava rakha ho un logon ne . mein to kahata hoon kamala ko is gaanv se baahar nikaal dena chaahie.

sabhee gaanv vaale bhee is baat se sahamat ho jaate hain. agale din panchaayat bulaee jaatee hai.

panchaayat ke phaisale ke anusaar kamala ko gaanv se baahar nikaalane ka aadesh diya jaata hai. guradayaal kamala ka saath deta hai. usako bhee gaanv se baahar nikaal diya jaata hai.

sukhiya ek aur chaal khelakar unaka har prakaar ka sampark gaanv baalon se tudava deta hai.

ab kamala aur sukhiya gaanv se baahar jhompadee banaakar rahane lagate hain. lekin gaanv sukhiya phir bhee unako jeene nahin de raha tha.

aakhir baat pahunchate pahunchate collector saahab tak pahunch gaee. unhonne doctors kee ek teem lee aur us gaanv mein pahunch gae.

vo vahaan par logon ka chekap karavaate hain. to pata chalata hai ki beemaar bakare ka maans khaane se sab beemaar hue hain. kamala aur guradayaal ko bhee vahaan bula liya jaata hai.

kamala us din kee saaree baat bataatee hai. kamala yah bhee bataatee hai ki kis prakaar usako kali zubaan ka naam dekar gaanv se bedakhal kar diya jaata hai.

collector saahab sabase pahale mukhiya ko lataad lagaate hain aur phir sukhiya ko saamane bulaate hain. pulis vaale kee ek dahaad par hee sukhiya sab sach bata deta hai kee usaka bakara bahut dinon se beemaar tha. sukhiya khud isalie  beemaar nahin hua kyonki usane maans nahin khaaya tha.

ab mukhiya ko bhee apanee galatee ka ehasaas ho jaata hai.vo kamala se mafi maangata hai.

collector saahab sukhiya ko jel mein daalane ka aadesh dete hain . ojha ke khilaaph bhee kes darj kiya jaata hai. mukhiya ko kamala kee siphaarish par chhod diya jaata hai. par mukhiya ko gaanv ke mukhiya ke pad se hataakar kamala ko mukhiya bana diya jaata hai.

collector saahab is gaanv mein balee dene par poornataya pratibandh laga dete hain. isake saath vahaan dispensaree ka prabandh bhee kiya jaata hai.

ab us gaanv mein sab theek ho gaya tha.

nishkarsh:–

dosto hamen is kahaanee (kali zuban-1 aur kali zuban -2)se yah shiksha lenee chaahie ki, bina kisee baat kee satyata ko jaane hamen kisee nateeje par nahin pahunchana chaahie . kisee kee baaton mein nahin aana chaahie. andhavishvaas se bachana chaahie.

 

 

 

काली ज़ुबान-2 (Kali Zuban-2)

काली ज़ुबान-2 (kali zuban-2) के इस भाग में आपका स्वागत है | इस कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि :-

कमला एक बहुत ही पिछड़े हुए गांव में रहती थी |

वो थोड़ी पढ़ी लिखी भी थी| उसके पति का नाम गुरदयाल था।
वो गांव में अपनी खेती और मज़दूरी करके वो अपना घर चलाते थे।

यहां  इस गाँव में  हर फसल पर कुलदेवता को बली दी जाती थी |
इस बार बली के लिए बकरा देने की बरी  सुखिया की थी।

सुखिया किसी बीमार बकरे को ले आता है | कमला इस बात का बिरोध करती है |
लेकिन सुखिया किसी तरीके से कमला को चुप करवा देता है |
इसके बाद कमला प्रसाद लेने से भी मना कर देती है | सभी इस बात को लेकर नाराज़ होते हैं |

घर में कमला का पति गुरदयाल इस बारे में बात करता है | कमला उसको अपने तर्क से संतुष्ट कर देती है |

उधर सुखिया कमला से बदला लेने और उसको नीचा दिखाने के लिए योजना बना रहा होता है |

 

अब आगे :-

अपनी योजना के आनुसार सुखिया मुखिया के घर पहुँच जाता है |

मुखिया बहां बैठकर हुक्का पी रहा था |

सुखिया:- राम राम मुखिया जी |

मुखिया:- राम राम सुखिया | आओ  बैठो कैसे आना हुआ |

सुखिया :- कुछ नहीं मुखिया जी बस इधर से निकल रहा था | सोचा आपसे मिलता चलूँ |

बैसे आपकी तबियत तो ठीक है ना |

मुखिया :- हाँ ठीक है |

सुखिया :- बो मैं इसलिए पूछ रहा था क्यूँकी कमला ने कल बहुत कुछ कहा था |

कमला ने कल मेरी नाक ही कटवा दी |

मुखिया :- अरे सुखिया! वो तो पागल है | उसकी बातों  पर मत जाओ |

सुखिया :- बो बात तो ठीक है मुखिया जी ! लेकिन उसने प्रसाद ना लेकर अच्छा नहीं किया |

अगर कुलदेवता नाराज़ हो गया तो सारे गाँव को भुगतना पड़ेगा|

मुखिया :- हाँ यह बात तो है सुखिया |

सुखिया ;- अच्छा मुखिया जी! चलता हूँ  मैं, राम राम |

 

मुखिया:- राम राम |

 

सुखिया बहाँ  से चला  जाता है । वो अपनी योजना पर बहुत खुश हो रहा था। वो मुखिया को कमला के खिलाफ भड़काने में सफल हो चुका था।

अब वो सीधा गांव के ओझा के पास जाता है। सुखिया ओझा के कान भी कमला के खिलाफ अच्छे से भर देता है।

 

कुछ दिनों के बाद

अभी बली वाली बात को थोड़े दिन ही बीते थे । अचानक से गांव में बीमार पड़ना शुरू हो जाते हैं। एक के बाद एक बीमार पड़ते ही जा रहे थे।

गांव वाले ओझा के पास जाते हैं। वहां पर सुखिया पहले से ही मौजूद था।

मुखिया:– अरे सुखिया! तुम यहां क्या कर रहे हो, क्या बाकी सब की तरह  बीमार पड़ गए हो?

सुखिया:– राम राम मुखिया जी ! नहीं मैं तो ठीक हूं लेकिन, आप सब की चिंता मुझे ओझा बाबा के पास खींच लाई।

मुखिया :– ओझा से  राम राम  बाबा।

ओझा :– राम राम मुखिया जी। यह सब तो होना ही था।

कुलदेवता के प्रसाद का निरादर होगा तो यह तो होना ही है। कुलदेवता गांव से नाराज़ हो गया है।

मुखिया सहित सभी गांव वाले सकते में आ जाते हैं।

इधर सुखिया अपना काम शुरू कर देता है।

सुखिया:– देखा गांव बालो! मैंने पहले ही कहा था कि कमला की काली ज़ुबान है। तब मुखिया जी ने भी मेरी बात को गंभीरता से नहीं लिया।

मुखिया:– बो बात नहीं है सुखिया। ऐसे तो तुम भी बीमार नहीं हुए?

सुखिया:– हां मुखिया जी। शायद इसलिए कि मेरा मन साफ था और साफ नियत से मैने बली दी थी।

मुखिया:– लेकिन कमला और गुरदयाल भी तो ठीक हैं।

सुखिया:– हो सकता है कोई जादू टोना करवा रखा हो उन लोगों ने । में तो कहता हूं कमला को इस गांव से बाहर निकाल देना चाहिए।

सभी गांव वाले भी इस बात से सहमत हो जाते हैं। अगले दिन पंचायत बुलाई जाती है।

पंचायत के फैसले के अनुसार कमला को गांव से बाहर निकालने का आदेश दिया जाता है। गुरदयाल कमला का साथ देता है। उसको भी गांव से बाहर निकाल दिया जाता है।

सुखिया एक और चाल खेलकर उनका हर प्रकार का संपर्क गांव बालों से तुड़वा देता है।

अब कमला और सुखिया गांव से बाहर झोंपड़ी बनाकर रहने लगते हैं। लेकिन गांव सुखिया फिर भी उनको जीने नहीं दे रहा था।

आखिर बात पहुंचते पहुंचते कलेक्टर साहब तक पहुंच गई। उन्होंने डॉक्टर्स की एक टीम ली और उस गांव में पहुंच गए।

वो वहां पर लोगों का चेकअप करवाते हैं। तो पता चलता है कि बीमार बकरे का मांस खाने से सब बीमार हुए हैं। कमला और गुरदयाल को भी वहां बुला लिया जाता है।

कमला उस दिन की सारी बात बताती है। कमला यह भी बताती है कि किस प्रकार उसको काली ज़ुबान का नाम देकर गांव से बेदखल कर दिया जाता है।

कलेक्टर साहब सबसे पहले मुखिया को लताड़ लगाते हैं और फिर सुखिया को सामने बुलाते हैं। पुलिस वाले की एक दहाड़ पर ही सुखिया सब सच बता देता है की उसका बकरा बहुत दिनों से बीमार था। सुखिया खुद इसलिए  बीमार नहीं हुआ क्योंकि उसने मांस नहीं खाया था।

अब मुखिया को भी अपनी गलती का एहसास हो जाता है।वो कमला से माफी मांगता है।

कलेक्टर साहब सुखिया को जेल में डालने का आदेश देते हैं । ओझा के खिलाफ भी केस दर्ज किया जाता है। मुखिया को कमला की सिफारिश पर छोड़ दिया जाता है। पर मुखिया को गांव के मुखिया के पद से हटाकर कमला को मुखिया बना दिया जाता है।

कलेक्टर साहब इस गांव में बली देने पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा देते हैं। इसके साथ वहां डिस्पेंसरी का प्रबंध भी किया जाता है।

अब उस गांव में सब ठीक हो गया था।

निष्कर्ष:–

दोस्तो हमें इस कहानी (kali zuban-1 और kali zuban -2)  से यह शिक्षा लेनी चाहिए कि, बिना किसी बात की सत्यता को जाने हमें किसी नतीजे पर नहीं पहुंचना चाहिए । किसी की बातों में नहीं आना चाहिए। अंधविश्वास से बचना चाहिए।

 

यह भी पढ़ें :-

  1. काली ज़ुबान -1 
  2. ज्ञान 
  3. नानी मां का वो गांव | Gaanv
  4. जिन्दगी में
  5. Apshagun-अपशगुन-1
  6. Lalach Buri Blaa Hai

 

 

 

 

 

 

 

About Priya Bhatiya

Priya Bhatiya
मैं Priya Bhatiya जम्मू की रहने वाली हूँ। मुझे शेर - ओ - शायरी, गज़लें और कवितायें लिखना और पढ़ना दोनों बहुत पसंद हैं। फिर मुझे Man Ke Par website net पर मिली । अब मैं अपनी लिखी हुई रचनाएँ मन के पर वैबसाइट के माध्यम से लोगों तक पहुंचा सकती हूँ । धन्यवाद

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *