Kali Zuban - काली ज़ुबान, Kali Zuban -2

Kali Zuban – काली ज़ुबान

Kali Zuban

hamane aksar apane jeevan mein Kali Zuban ke baare mein kabhee na zaroor suna hoga.

kabhee kisee ko kahate hue suna hoga ya phir khud kaha hoga .

aksar aisa hota hai ki kisee samay koee vyakti hamen koee salaah deta hai. us salaah ke saath saath phaikts bhee bataata hai. arthaat us kaam ke phaayade aur nuksaan.

ab agar kaheen usake dvaara kahee gaee nuksaan kee baat sach hai jae, to kya kaha jaega?
sab yahee kahate hain ki us phalaan aadamee ya aurat kee  Kali Zuban hai.

usane ye kaha tha aur dekho aisa hee ho gaya. phir us insaan se ham door rahane ka prayaas karate hain. aisee hee ek kahaanee hai kamala kee.

kamala ek bahut hee pichhade hue gaanv mein rahatee thee. vo thodee padhee likhee bhee thee. usake pati ka naam guradayaal tha. vo gaanv mein apanee khetee aur mazadooree karake vo apana ghar chalaate the.
ab aapako to pata hee hoga aaj bhee graameen kshetron mein balee pratha hai. aisa hee is gaanv mein bhee tha. yahaan bhee har phasal par kuladevata ko balee dee jaatee thee.
is baar phasal bhee achchhee huee thee . gaanv ke logon mein vaise hee bahut utsaah tha. sabhee gaanv vaale bahut utsaah ke saath balee kee tayaaree kar rahe the. is baar balee ke lie bakara dene kee baree sukhiya kee thee.
sukhiya vaise to sampann vyakti tha parantu, bahut laalachee aur dhoort bhee tha. balee baale din sabhee ikatthe hue mandir mein. balee kee taiyaaree kee gaee. sukhiya bhee bakara lekar aa gaya.

jab balee dene lage to kamala ne kaha:-

kamala:- is bakare ke sthaan par kisee aur bakare kee balee denee chaahie.
mukhiya:- kyoon kamala aisa kyoon bol rahee ho?
kamala:- yah bakara theek nahin lag raha. aisa lag raha hai jaise isako koee beemaaree hai.
sukhiya:- are kamala! ye kya bol rahee ho? mera bakara bilkul tandarust hai. dekho mukhiya jee yah jhooth bol rahee hai.

kamala:- mein kyoon jhooth bolane lagee bhala. mujhe jo laga mainne bol diya. mainne isalie bola ke beemaar bakare ka maans khaakar koee beemaar na pade.

sukhiya:- ye kya bol rahee ho kamala! shubh shubh bolo. tum kya apane gaanv kee khushee nahin chaahatee, ho aise shubh avasar par ashubh baaten kar rahee ho.

kamala:- bhala chaahatee hoon tabhee to bola.
mukhiya:- chalo chhodo donon aapas mein jhagadana. sukhiya kua tum sach bol rahe ho ki bakara tandarust hai?
sukhiya:- bilkul mukhiya jee. bakara bilkul theek hai.
mukhiya chalo phir balee kee rasm pooree kee jae.

usake baad bakare kee balee dee jaatee hai. bakare ka maans prasaad ke roop mein sabhee mein baanta jaata hai. kamala prasaad lene se inkaar kar detee hai. sabhee is baat ko bura manaate hain. mukhiya bhee is baat se naaraaz tha.
isake baad sab apane apane gharon kee taraph nikal padate hain.
ghar pahunchakar kamala ka pati guradayaal usase baat karata hai

guradayaal:- aaj theek nahin hua mandir mein kamala.
kamala:- kyon, kya galat kiya maine?
guradayaal:- are kya zaroorat thee itana bakheda khada karane kee?
kamala:- aur kya karatee? bakara sahee mein beemaar tha. auron ko bhee beemaaree lagatee to?
guradayaal:- vo to theek hai lekin prasaad lene se inkaar nahin karana chaahie tha.
kamala:- dekhie mera aapake siva koee aur nahin hai. aur aapako beemaar karane se behatar hai ki main prasaad na loon.

apshagun par kahanee padhne ke liye yahan click karen

guradayaal bhee kamala ke vichaaron se sahamat tha. isalie vo bhee chup ho gaya. lekin koee tha jisako abhee bhee kamala se atyadhik gussa tha. vo tha sukhiya.

Sukhiya ab ye soch raha tha ki kaise bhee karake ab kamala ko neecha dikhaana hai. ab is kaam ke lie usane apanee yojana banaanee shuroo kar dee.

ab sukhiya kya yojana banaega ?
kya vo kamala ko neecha dikhaane mein saphal ho paega?
kamala ne prasaad na lekar theek kiya ya galat?
guradayaal aur kamala ke jeevan par is balee pooja ka kya asar padega?

in sab baaton ko jaanane ke lie hamaare saath jude rahie .
jald hee aapake saamane is kahaanee ka doosara bhaag prastut hoga.
tab tak ke lie:-

namaskaar

 

काली ज़ुबान

 

हमने अक्सर अपने जीवन में काली ज़ुबान के बारे में कभी ना ज़रूर सुना होगा। कभी किसी को कहते हुए  सुना होगा या फिर खुद कहा होगा ।

अक्सर ऐसा होता है कि किसी समय कोई व्यक्ति हमें कोई सलाह देता है। उस सलाह के साथ साथ फैक्ट्स भी बताता है। अर्थात उस काम के फायदे और नुक्सान।

अब अगर कहीं उसके द्वारा कही गई नुक्सान की बात सच है जाए, तो क्या कहा जाएगा?

सब यही कहते हैं कि उस फलां आदमी या औरत की ज़ुबान काली है। उसने ये कहा था और देखो ऐसा ही हो गया। फिर उस इन्सान से हम दूर रहने का प्रयास करते हैं। ऐसी ही एक कहानी है कमला की।

 

कमला एक बहुत ही पिछड़े हुए गांव में रहती थी। वो थोड़ी पढ़ी लिखी भी थी। उसके पति का नाम गुरदयाल था। वो गांव में अपनी खेती और मज़दूरी करके वो अपना घर चलाते थे।

अब आपको तो पता ही होगा आज भी ग्रामीण क्षेत्रों में बली प्रथा है। ऐसा ही इस गांव में भी था। यहां भी हर फसल पर कुलदेवता को बली दी जाती थी।

इस बार फसल भी अच्छी हुई थी । गांव के लोगों में वैसे ही बहुत उत्साह था। सभी गांव वाले बहुत उत्साह के साथ बली की तयारी कर रहे थे। इस बार बली के लिए बकरा देने की बरी  सुखिया की थी।

सुखिया वैसे तो संपन्न व्यक्ति था परन्तु, बहुत लालची और धूर्त भी था। बली बाले दिन सभी इकट्ठे हुए मंदिर में। बली की तैयारी की गई।  सुखिया भी बकरा लेकर आ गया।

 

जब बली देने लगे तो कमला ने कहा:-

 

कमला:- इस बकरे के स्थान पर किसी और बकरे की बली देनी चाहिए।

मुखिया:- क्यूं कमला ऐसा क्यूं बोल रही हो?

कमला:- यह बकरा ठीक नहीं लग रहा। ऐसा लग रहा है जैसे इसको कोई बीमारी है।

सुखिया:- अरे कमला! ये क्या बोल रही हो? मेरा बकरा बिल्कुल तंदरुस्त है। देखो मुखिया जी यह झूठ बोल रही है।

 

कमला:- में क्यूं झूठ बोलने लगी भला। मुझे जो लगा मैंने बोल दिया। मैंने इसलिए बोला के बीमार बकरे का मांस खाकर कोई बीमार ना पड़े।

 

सुखिया:- ये क्या बोल रही हो कमला! शुभ शुभ बोलो। तुम क्या अपने गांव की खुशी नहीं चाहती, हो ऐसे शुभ अवसर पर अशुभ बातें कर रही हो।

 

कमला:- भला चाहती हूं तभी तो बोला।

मुखिया:- चलो छोड़ो दोनों आपस में झगड़ना।  सुखिया कुआ तुम सच बोल रहे हो कि बकरा तंदरुस्त है?

सुखिया:- बिल्कुल मुखिया जी। बकरा बिल्कुल ठीक है।

मुखिया चलो फिर बली की रस्म पूरी की जाए।

 

उसके बाद बकरे की बली दी जाती है। बकरे का मांस प्रसाद के रूप में सभी में बांटा जाता है। कमला प्रसाद लेने से इन्कार कर देती है।

सभी इस बात को बुरा मनाते हैं। मुखिया भी इस बात से नाराज़ था।

इसके बाद सब अपने अपने घरों की तरफ निकल पड़ते हैं।

घर पहुंचकर कमला का पति गुरदयाल उससे बात करता है

 

गुरदयाल:- आज ठीक नहीं हुआ मंदिर में कमला।

कमला:- क्यों, क्या ग़लत किया मैने?

गुरदयाल:- अरे क्या ज़रूरत थी इतना बखेड़ा खड़ा करने की?

कमला:- और क्या करती? बकरा सही में बीमार था। औरों को भी बीमारी लगती तो?

गुरदयाल:- वो तो ठीक है लेकिन प्रसाद लेने से इंकार नहीं करना चाहिए था।

कमला:- देखिए मेरा आपके सिवा कोई और नहीं है। और आपको बीमार करने से बेहतर है कि मैं प्रसाद ना लूं।

स्थिरता पर बेहतरीन शायरी के लिए यहाँ क्लिक करें 

गुरदयाल भी कमला के विचारों से सहमत था। इसलिए वो भी चुप हो गया। लेकिन कोई था जिसको अभी भी कमला से अत्यधिक गुस्सा था। वो था सुखिया।

सुखिया अब ये सोच रहा था कि कैसे भी करके अब कमला को नीचा दिखाना है। अब इस काम के लिए उसने अपनी योजना बनानी शुरू कर दी।

 

अब सुखिया क्या योजना बनाएगा ?

क्या वो कमला को नीचा दिखाने में सफल हो पाएगा?

कमला ने प्रसाद ना लेकर ठीक किया या ग़लत?

गुरदयाल और कमला के जीवन पर इस बली पूजा का क्या असर पड़ेगा?

 

इन सब बातों को जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहिए ।

जल्द ही आपके सामने इस कहानी का दूसरा भाग प्रस्तुत होगा।

तब तक के लिए:-

 

नमस्कार

यह भी पढ़ें :-

  1. Kali Zuban -2 (काली ज़ुबान-2)
  2. जिन्दगी में
  3. Apne
  4. Purana Zamana – पुराना ज़माना
  5. Lalach Buri Blaa Hai

About Priya Bhatiya

Priya Bhatiya
मैं Priya Bhatiya जम्मू की रहने वाली हूँ। मुझे शेर - ओ - शायरी, गज़लें और कवितायें लिखना और पढ़ना दोनों बहुत पसंद हैं। फिर मुझे Man Ke Par website net पर मिली । अब मैं अपनी लिखी हुई रचनाएँ मन के पर वैबसाइट के माध्यम से लोगों तक पहुंचा सकती हूँ । धन्यवाद

3 comments

  1. Avatar

    Bhauut khuub…..

  2. Avatar

    Nice thoughts

  3. Avatar

    This website has got a lot of extremely useful info on it! Thanks for sharing it with me!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *