Lalach-लालच

Lalach Buri Blaa Hai

Lalach

Lalach bahut buri  bla hotee hai. Yah baat ham sab ne sun raakhee hai. Isee kahaavat par ek kahaanee hai, Ek saadhoo aur thag kee. Ek samay kee baat hai, ek saadhu kisee gaanv mein raha karata tha .

Us gaanv mein vo akela saadhu tha. Yahee kaaran tha ki usako poore gaanv se daan mein kuchh na kuchh milata rahata tha.

Vo saadhoo Lalach  mein aa gaya tha.  Daan ke Lalach mein usane gaanv mein kisee doosare saadhoo ko nahin rahane diya. Agar koee aa jaata tha, to usako kisee bhee prakaar kee yukti  se gaanv se bhaga dete the. Is prakaar usake paas bahut saara dhan ikattha ho gaya tha.

Ek thag tha raghu. Usakee najar kaee dinon se us saadhu ke dhan par tikee huee thee. Vo kisee bhee prakaar se us saadhu ke dhan ko hathiyaana chaahata tha.

Usane yojana banaee aur ek bhikshuk ka roop banaakar saadhu ke paas pahunch gaya. Usane saadhu se aagrah kiya :-

thag:- pranaam baaba !

saadhu :- pranaam ! sada sukhee raho.

thag :- baaba mujhe apana shishy bana lo. Main aapakee seva karake puny kamaana chaahata hoon.

saadhu:- vo to theek hai lekin tumhaara naam kya hai bachcha ?

thag:- baaba mera naam raghu hai.

saadhoo :- lekin raghu beta! main kisee ko apana shishy nahin banaata.

raghu:- baaba aapane to itanee bhakti kar rakhee hai. Mujhe bhee kuchh puny mil jaayega. Aapakee seva karake main bhee mukti ko praapt kar paunga.

Saadhu bhee is baat se hava mein aa gaya aur bhikshuk roopee thag  ko apana shishy bana liya. Thag saadhu ke saath hee mandir mein rahane laga aur saadhu kee seva karane laga. Isake saath saath vo thag mandir kee dekhabhaal bhee karane laga.

 

Kirdaar par Best Poetry ke liye yahan click karen

 

Thag kee seva ne saadhu ko khush kar diya tha.  Phir ek din us saadhu ko pooja ke lie kisee doosare gaanv se nimantran aaya. Usane apane shishy (thag) ko saath chalane ke lie kaha. Us saadhu ne ek potalee mein apane dhan ko liya.

Unake raaste mein ek nadee padatee thee . Saadhu sochane laga ki kyon na us gaanv mein pravesh karane ke pahale is nadee mein snaan kar liya jae. Yah sochakar saadhu apane shishy ko  us potalee  kee dekhabhaal karane ko  bolakar nadee kee or chal diya.

Thag to khushee se paagal ho utha . Usako jis mauke kee talaash thee, vo mil gaya tha . Jaise hee saadhu ne nadee mein dubakee lagaee hee thee kee thag saara saamaan uthaaya aur bahan se chala gaya .

Jab saadhu vaapas aaya,  to usane kya dekha ?  Bahaan na to usaka shishy tha aur na hee dhan vaalee potalee . Yah sab dekhakar saadhoo apana sir pakadakar baith gaya.

 

To dosto ! Hamen bhee is kahaanee se yah shiksha lenee chaahie ki na to hamen Lalach karana chaahie aur na hee kisee kee chikanee chupadee baaton mein aana chaahie.

 

namaskaar

 

लालच 

लालच बहुत बुरी बला होती है | यह बात हम सब ने सुन राखी है| इसी कहावत पर एक कहानी है एक साधू और ठग की |एक समय की बात है, एक साधु किसी गांव में रहा करता था ।

उस गांव में वो अकेला साधु था, यही कारण था कि उसको पूरे गांव से दान में कुछ न कुछ मिलता रहता था।

वो साधू लालच  में आ गया था | दान के लालच में उसने गांव में किसी दूसरे साधू को नहीं रहने दिया | अगर कोई आ जाता था, तो उसको किसी भी प्रकार की युक्ति  से गांव से भगा देते थे। इस प्रकार उनके पास बहुत सारा धन इकट्ठा हो गया था।

एक ठग था रघु | उसकी नजर कई दिनों से उस साधु के धन पर टिकी हुई थी। वह किसी भी प्रकार से उस साधु के धन को हथियाना चाहता था।

उसने योजना बनाई और एक भिक्षुक का रूप बनाकर साधु के पास पहुंच गया। उसने साधु से आग्रह किया :-

ठग:- प्रणाम बाबा !

साधु :- प्रणाम ! सदा सुखी रहो |

ठग :- बाबा मुझे अपना शिष्य बना लो | मैं आपकी सेवा करके पुण्य कमाना चाहता हूँ |

साधु:- वो तो ठीक है लेकिन तुम्हारा नाम क्या है बच्चा ?

ठग:- बाबा मेरा नाम रघु है |

साधू :- लेकिन रघु बेटा! मैं किसी को अपना शिष्य नहीं बनाता |

रघु:- बाबा आपने तो इतनी भक्ति कर रखी है | मुझे भी कुछ पुण्य मिल जायेगा | आपकी सेवा करके मैं भी मुक्ति को प्राप्त कर पाउंगा|

साधु भी इस बात से हवा में आ गया और भिक्षुक रूपी ठग  को अपना शिष्य बना लिया। ठग साधु के साथ ही मंदिर में रहने लगा और साधु की सेवा करने लगा | इसके साथ साथ वो ठग मंदिर की देखभाल भी करने लगा।

 

अच्छा लगता है 

 

ठग की सेवा ने साधु को खुश कर दिया था | फिर एक दिन उस साधु को पूजा के लिए किसी दूसरे गांव से निमंत्रण आया | उसने अपने शिष्य (ठग) को साथ चलने के लिए कहा | उस साधु ने एक पोटली में अपने धन को लिया।

उनके रास्ते में एक नदी पड़ती थी । साधु सोचने लगा कि क्यों न उस गांव में प्रवेश करने के पहले इस नदी में स्नान कर लिया जाए। यह सोचकर साधु अपने शिष्य को  उस पोटली  की देखभाल करने को  बोलकर नदी की ओर चल दिया |

ठग तो ख़ुशी से पागल हो उठा । उसको जिस मौके की तलाश थी, वो मिल गया था । जैसे ही साधु ने नदी में डुबकी लगाई ही थी की ठग सारा सामान उठाया और बहाँ से चला गया ।

जब साधु वापस आया,  तो उसने क्या देखा ? बहां न तो उसका शिष्य था और ना ही धन वाली पोटली । यह सब देखकर साधू अपना सिर पकड़कर बैठ गया |

 

तो दोस्तो ! हमें भी इस कहानी से यह शिक्षा लेनी चाहिए कि ना तो हमें लालच करना चाहिए और ना ही किसी की चिकनी चुपड़ी बातों में आना चाहिए |

 

नमस्कार

Check Also

Kali Zuban - काली ज़ुबान, Kali Zuban -2

Kali Zuban -2 (काली ज़ुबान-2)

Kali Zuban par adbhut story ko hinglish men padhne ke liye click karen. काली ज़ुबान पर अद्भुत कहानी को हिन्दी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करें.

Kali Zuban - काली ज़ुबान, Kali Zuban -2

Kali Zuban – काली ज़ुबान

Kali Zuban par adbhut story ko hinglish men padhne ke liye click karen. काली ज़ुबान पर अद्भुत कहानी को हिन्दी में पढने के लिए यहाँ क्लिक करें.

One comment

  1. bahaut achi kahani hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *