कुदरत - Nature

कुदरत | Nature

कुदरत (Nature) दे रंगा दी खेड न्यारी जहड़े रचदे दुनिया सारी
रंग बिरंगी दुनिया साजी जावाँ एहना रंगा तों बलिहारी

काहदा करना ए हर वेले माण  तू पतंद्रा
खुलदा नहीं फिर लगया अक्ल ते जिन्द्रा

तू झड़ जाना इवे बंदया जिवे पत्ता सुकी टाहणी दा
एह कुदरत दे रंगा नू एहवे नहीं माड़ा जाणी दा

जे एह रोटी हर हाल च दे सकदा  ए
हथ चों भी एह कदी वीं खो सकदा ए

चढ़ दे दिन नू करो हर रोज सलामा
ते ढल दे दिन नू  वीं शुक्र मनाला

रब ने हर वेले उच्चा ते पाक ए रेहणा
शक ना करीं तू मन मेरा केहणा

क्यूँ की एह ही है लेखक हर इक उस कहाणी दा
जो बण दा है आधार  दुनियाँ च हर इक प्राणी दा

बदल दिंदा है इक छीन विच एह किसे दी किस्मत
राजे नू भिखारी ते भिखारी नू राजे तों करवान्दा खिदमत

एहदे रंग बड़े ने न्यारे इस जहाँ विच  ऐदां समाए
है एहदे विच ही सब कुज पर कोई एह गल समझ ना पाए

जेह समझ लए एहदे रंगा नूं ते ज़ीवन खुशहाल हो जाएगा
हर वेले हर हाल च बंदे फेर तू शुकर मनायेंगा

कुदरत (Nature) दे रंगा दी खेड न्यारी जहड़े रचदे दुनिया सारी
रंग बिरंगी दुनिया साजी जावाँ एहना रंगा तों बलिहारी

kudrat यह भी पढ़ें :- 

  1. अरदास
  2. जैसा चाहता है बैसा बना दे 
  3. दुख
  4. धियाँ
  5. गजब तेरी माया
  6. निरंकार मिलादे
  7. बेस्ट स्टेटस 
  8. दोस्ती हमारी | Dosti Hamari