खबर

ऐसा नहीं है के भूल पाया हूँ मैं पर
तेरी यादों ने फिर से पागल बना दिया मुझको
तू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिन
मैं कैसे जी रहा हूँ नहीं है खबर तुझको

 

याद आ रहा है हर बो लम्हा जो बीता तेरे साथ बातें करते करते
एक दिन कर दिया था बयाँ मैंने भी हाल ए दिल डरते डरते
फिर पता नहीं क्यों तुझे नफरत सी हो गयी मुझसे
और मेरी और गहरी मोहब्बत हो गयी थी तुझसे
तेरी जुदाई में नही आ रही है मुझको मौत भी
क्यूंकि अब मौत का नही है डर मुझको
तू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिन
मैं कैसे जी रहा हूँ नहीं है ……………………….

 

तेरे घर में जाकर भी तुझसे बात नही करी थी
उस वक्त मेरी हर सांस इक आह से भरी थी
हर कोई था खुश बहां पर मेरे दिल में गम था
क्यूंकि वो  तेरा atitude भी कहाँ कम था
तुम्हारी बहन की वो विदाई थी
और पड़ने वाली मेरी तुझसे जुदाई थी
क्यों सच्चे प्यार का अंजाम यहाँ पर
मिली तेरे प्यार की है नही डगर मुझको
तू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिन
मैं कैसे जी रहा हूँ नहीं है ……………………….

 

फिर पता चला तेरी शादी का तो

दिल की धड़कन ही थम गयी
सुब कुछ लुट सा गया मेरा इस जहाँ में
और ऊपर से आँख भी हो नम गयी
पता नहीं कैसे तुमने बात करी मुझसे
तेरी खुशियों की blessing मांगी मुझसे
फिर एक दिन कर दिया block मुझको
शायद मेरा दिल तोड़ने का था शौक तुझको
कैसे करू बयां मैं हाल ए दिल बताओ मुझे
क्यों नही हुई मेरे प्यार की कदर तुझको
तू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिन
मैं कैसे जी रहा हूँ नहीं है ……………………….

 

 

अब तेरी जिंदगी में नन्ही सी परी आई है
तेरी ज़िदगी में खुशियों की झड़ी लायी है
अब तो पिया संग उसको  दुलार दो तुम
मोहब्बत उसपर बेपनाह अब वार दो तुम
दातार करे खुशियों से भरी  जिंदगी हो तेरी
तुमको नही मालूम के त्तुम बन्दगी हो मेरी
हर सौगात से भरे झोली तेरी रहे न कोई डर तुझको
तू तो है खुश अपनी दुनिया में लेकिन
मैं कैसे जी रहा हूँ नहीं है ……………………….

 

यह भी पढ़ें :- 

  1. किसान
  2. प्यारा सा बेटा 
  3. काली ज़ुबान

Related Posts

This Post Has One Comment

Comments are closed.