Purana Zamana - पुराना ज़माना

Purana Zamana – पुराना ज़माना

Purana Zamana

 

aaj se to purana zamana hee achchha tha kyonki

kyonki aaj ke badale pahale insaan jyaada sachcha tha.

 

dikhata to hai kuchh aur lekin andar kuchh aur hai

chola hai fakeeree ka lekin andar chor hai

pahale to phakkar hee fakeer tha jaga hua sabaka zameer tha

beshak tab ghar the kachche lekin sabaka dil to pakka tha

 

 

aaj to dharm ke naam par danga hai nit naya ye panga

oopar se to paak saaf par andar se bilkul ganda hai

jue mein udaaya ja raha hai jo raahat ka chanda hai

pahale to har insaan ka ye alfaaz sachcha tha .

isalie to kahata hoon ki…………..

 

matalab mein badal chuka hai har alfaaz aaj insaan ka

paisa hee hai sab kuchh aaj nahin hai mol koee eemaan ka

naanak raam raheem chaahe eesa har paigambar mahaan tha

inake naam ka vaachan karane vaala har koee tab sachcha tha

isalie to kahata hoon ki…………..

 

किसान पर कविता को पढने के लिए क्लिक करें

 

sastee ho chukee hai keemat lahoo kee jo chand paison ke lie bahaaya jaata hai

paise ke dam par to aajakal daag khoon ka bhee mitaaya jaata hai

pata nahin yah naee peedhee ka badalaav hai ya phir aisa sikhaaya jaata hai

killar ke naam se jaana jaata hai 15 saal ka vo pahale jo bachcha tha

isalie to kahata hoon ki…………..

 

rishton kee neelaamee sare baazaar ho rahee hai badale hain rishtedaar par rishta to vahee hai

dikhalaave mein badal chuka hai har rivaaz dikhalaave ke lie sab lutaana kya sahee hai?

banakar bhaee dete aksar karata hai khilavaad aabaroo se

sone kee chain mein badal chuka hai vo jo raakhee ka dhaaga kachcha tha

isalie to kahata hoon ki…………..

 

jisapar beete vo tan jaanata hai

varana har koee haqeekat ko mazaak maanata hai

kitana hai kapatee aur kitana hai achchha

ye to usaka man jaanata hai

usake khyaal ko padhana ab koee khel nahin

jo dhokhe ko keval ek khel maanata hai

aaj badal chuka hai har vaada jhooth mein jo vaada kabhee paak aur sachcha tha

isalie to kahata hoon ki purana zamana hee achchha tha

 

 

पुराना ज़माना

 

 

आज से तो पुराना ज़माना ही अच्छा था

क्योंकिआज के बदले पहले का इन्सान ज्यादा सच्चा था।

 

दिखता तो है कुछ और लेकिन अन्दर कुछ और है

चोला है फ़कीरी का लेकिन अन्दर चोर है

पहले तो फक्कर ही फ़कीर था जगा हुआ सबका ज़मीर था

बेशक तब घर थे कच्चे लेकिन सबका दिल तो पक्का था

 

आज तो धर्म के नाम पर दंगा है नित नया ये पंगा

ऊपर से तो पाक साफ़ पर अन्दर से बिल्कुल गन्दा है

जुए में उड़ाया जा रहा है जो राहत का चन्दा है

पहले तो हर इन्सान का ये अल्फ़ाज़ सच्चा था ।

इसलिए तो कहता हूं कि…………..

 

ज़िन्दगी पर बेस्ट शायरी को पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

मतलब में बदल चुका है हर अल्फ़ाज़ आज इन्सान का

पैसा ही है सब कुछ आज  नहीं है मोल कोई ईमान का

नानक राम रहीम चाहे ईसा हर पैग़म्बर महान था

इनके नाम का वाचन करने वाला हर कोई तब सच्चा था

इसलिए तो कहता हूं कि…………..

 

सस्ती हो चुकी है कीमत लहू की जो चंद पैसों के लिए बहाया जाता है

पैसे के दम पर तो आजकल दाग़ खून का भी मिटाया जाता है

पता नहीं यह नई पीढ़ी का बदलाव है या फिर ऐसा सिखाया जाता है

किल्लर के नाम से जाना जाता है 15 साल का वो पहले जो बच्चा था

इसलिए तो कहता हूं कि…………..

 

ये दुखी वो दुखी कविता को पढने के लिए क्लिक करें

 

रिश्तों की नीलामी सरे बाज़ार हो रही है बदले हैं रिश्तेदार पर रिश्ता तो वही है

दिखलावे में बदल चुका है हर रिवाज़ दिखलावे के लिए सब लुटाना क्या सही है?

बनकर भाई देते अक्सर करता है खिलवाड़ आबरू से

सोने की चैन में बदल चुका है वो जो राखी का धागा कच्चा था

इसलिए तो कहता हूं कि…………..

 

जिसपर बीते वो तन जानता है

वरना हर कोई हक़ीकत को मज़ाक मानता है

कितना है कपटी और कितना है अच्छा

ये तो उसका मन जानता है

उसके ख़्याल को पढ़ना अब कोई खेल नहीं

जो धोखे को केवल एक खेल मानता है

आज बदल चुका है हर वादा झूठ में जो वादा कभी पाक और सच्चा था

इसलिए तो कहता हूं कि पुराना ज़माना ही अच्छा था

 

Check Also

Nazar-नज़र-andaz-Andaaz-अंदाज़

Nazar-नज़र

Nazar-नज़र   नज़र का अंदाज़ ना कोई समझ पाया है जो  समझ पाए अंदाज़ वह …

सुरक्षा-suraksha-Safety

सुरक्षा-suraksha|Safety

सुरक्षा से जीवन का सार, बिन सुरक्षा जीवन बेकारसुरक्षा से जीवन में बहार, सुरक्षा के है मायने हजार

4 comments

  1. Ultimate

  2. Agree with story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *