true master,दास दाता

सतगुरु

सतगुरु ना कुछ मांगता है ना कुछ चाहता है ,

ये तो बस प्यार सिखाता है

बता कर रास्ता गुरसिखी का  उस पर चलना सिखाता है ,

गिरा कर दिबार नफरत और मजहब की ,

इन्सान को इन्सान बनाता है ,क्या करू सिफत अपने सतगुरु की ,

ये तो धरती को सबर्ग बनाता है ,

यह ना कुछ मांगता है और नं कुछ चाहता है ,

ये तो बस प्यार सिखाता है ,देकर दात ज्ञान की ,

इन्सान को देब बनाता है करना सब का सत्कार सिखाता है ,

जलाकर दीपक ज्ञान का अपने जेसा बनाता है ,

 

sataguru na kuchh maangata hai nan kuchh chaahata hai,
ye to bas pyaar sikhaata hai

bata kar raasta gurasikhee ka us par chalana sikhaata hai,
gira kar dibaar napharat aur majahab kee,

insaan ko insaan banaata hai, kya karoo siphat apane sataguru kee,
ye to dharatee ko sabarg banaata hai,

yah na kuchh maangata hai aur nan kuchh chaahata hai,

ye to bas pyaar sikhaata hai, dekar dat gyaan kee, i

nsaan ko deb banaata hai karana sab ka bhaavanaon ko sikhaana hai,

jalaakar deepak gyaan ka apana jesa banaata hai,

 

यह भी पढ़ें :- 

  1. Mere Satguru (मेरे सतगुरु)
  2. जैसा चाहता है कर रहमत (Mercy)बैसा बना दे तू
  3. सँसार कर्म की नगरी
  4. Time-वक़्त गुज़र जाएगा…….
  5. जिन्दगी में

 

1 thought on “सतगुरु”

Comments are closed.

Scroll to Top