Shuruat Kisi Rishte Ki

Shuruat Kisi Rishte Ki

Shuruat Kisi Rishte Ki

ho shuruat kisi rishte ki aise

na dooree aur na  koee  dabaab ho jaise

 

hain  kachche dhaage se bhee naajuk isakee dor

ho na  kisee ke rishte kee buniyaad kamazor

 

maa aur paapa ka rishta hai bada suhaana

bachchon ka saath jindagee bhar hai nibhaana

 

bhaee aur bahan ka rishta hai  pyaara

lad jhagad kar vakt nikalata hai saara

 

pati aur patnee ka rishta hai sabase anamol

duhkh ,majabooree aur kathinata ko kar jaate gol

 

rishta bhaabee aur nand ka aisa

khattee meethee namakeen  ho jaisa

 

hai rishte kuchh dil ke kareeb hamaare

kar diya jinhonne hame kinaare

 

doston ka rishta hota hai  hamesha aavaara

jo har pal  deta hai sakoon ka phuaara

 

hai anamol yah sabhee kee jindagee mein

kabhee ho na kharaab kisee sthiti mein

 

ho itane majaboot pyaar namrata se

jeevan bane mahaan samaanata se

 

karen kadar ham sabhee rishton kee

nibha paoon jaise samundar mein laharen paanee kee

 

 

Parivar par kahanee padhne ke liye yahan click karen:- Parivaar

 

 

शुरुआत किसी रिश्ते की

हो शुरुआत किसी रिश्ते की ऐसे

ना दूरी और ना  कोई  दबाब हो जैसे

 

हैं  कच्चे धागे से भी नाजुक इसकी डोर

हो ना  किसी के रिश्ते की बुनियाद कमज़ोर

 

माँ और पापा का रिश्ता है बड़ा सुहाना

बच्चों का साथ जिंदगी भर है निभाना

 

भाई और बहन का रिश्ता है  प्यारा

लड़ झगड़ कर वक्त निकलता है सारा

 

पति और पत्नी का रिश्ता है सबसे अनमोल

दुःख ,मजबूरी और कठिनता को कर जाते गोल

 

रिश्ता भाबी और ननद  का ऐसा

खट्टी मीठी नमकीन  हो जैसा

 

है रिश्ते कुछ दिल के करीब हमारे

कर दिया जिन्होंने हमे किनारे

 

दोस्तों का रिश्ता होता है  हमेशा आवारा

जो हर पल  देता है सकून का फुआरा

 

है अनमोल यह सभी की जिंदगी में

कभी हो ना खराब किसी स्थिति में

 

हो इतने मजबूत प्यार नम्रता से

जीवन बने महान समानता से

 

करें कदर हम सभी रिश्तों की

निभा पाऊं जैसे समुंदर में लहरें पानी की

 

बेहतरीन शायरी के लिए यहाँ क्लिक करें :- बेस्ट शायरी

 

 

Check Also

सुरक्षा-suraksha-Safety

सुरक्षा-suraksha|Safety

सुरक्षा से जीवन का सार, बिन सुरक्षा जीवन बेकारसुरक्षा से जीवन में बहार, सुरक्षा के है मायने हजार

महफिल में हूं मैं(Mehfil Me Hu Main)

महफिल में हूं मैं(Mehfil Me Hu Main)

ना जाने क्यूं रौनक के गीत में भी उदासी सी नजर आती है मोहब्बत के सागर में अपनी रूह प्यासी सी नजर आती है