किरदार

इसका नाम है प्यार, मेरा जीवन

इसका नाम है प्यार

इसका नाम है प्यार एक कबिता में प्यार को समझने के विभिन्न पडावों को पार करने के बाद अंत में समझ आया कि प्यार है क्या | पढने के लिए क्लिक करें

इन्सान की फितरत, insan ki fitrat

कमी मुझमें ही होगी

देखता हूँ कमियों को दूसरों की कोई गुण न देख पाऊँ तो कमी मुझमें ही होगी | इस कविता को पूरा पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

इसका नाम है प्यार, मेरा जीवन

मेरा जीवन

हे निरंकार मेरा जीवन कुछ ऐसा हो  जाये कर सकूँ मैं भक्ति तेरी , जीबन का उद्हर हो जाये ,

Mercy, रहमत, सेवा, sewa

करो दुआ मेरे लिए

करो दुआ मेरे लिए  , मुझे बो मुकाम मिल जाए , है जो प्यारा इस निरंकार का बो इन्सान मिल जाए ,

Scroll to Top