टाइम फॉर इलेक्शन

टाइम फॉर इलेक्शन

टाइम फॉर इलेक्शन

टाईम  है वोटों का दारू और नोटों का (टाइम फॉर इलेक्शन),

बादे किस्से  कहानियों का वोटर को लुभाने का ,वोट पाने का ,

 

फिर पांच साल मुहँ ना दिखाना है ,

वादा एक भी नहीं निभाना है ,

कर बदा झूठा जनता को उल्लू  बनाना है,

 

इलेक्शन एक ऐसा त्यौहार है   जो आता पांच साल  में एक बार है ,

आफर बड़े बड़े सब देते , करतेअपना प्रचार है  ,

चार दिन की चांदनी फिर जनता का खून चूसने  को त्यार हैं ,

 

नेता लोग आपस में पकड़ते है गर्दन एक दुसरे की हमारे सामने ,

पर आपस में उनका बहुत प्यार है ,जनता से किसी को नहीं कोई बासता ,

क्यू की सब को  तो मनी से प्यार है ,

 

भोली भली जनता तो हर बार धोखा खाती है ,बाद में  जनता बहुत पछताती  है ,

अब तो जनता जाग जाओ ,लालच में ना तुम आओ ,

जाति धर्म ,सब अनेक ,,,, है,पर मानब धर्म एक है ,

इंसानियत धर्म निभाना है ,अगर देश को बचाना है ,,,,,,,,,,,,

 

यह भी पढ़ें :- 

  1. किसान 
  2. किसान आन्दोलन 
  3. Purana Zamana – पुराना ज़माना
  4. निरंकार मिलादे
  5. Kehna Ya Sehna (कहना या सहना)
  6. Desh Ki Tasveer-2 (देश की तस्बीर -2)

 

About Ranbir Singh Bhatia

Avatar

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *